ई-उपार्जन के माध्यम से विगत 5 वर्षो में कुल 118.57 लाख किसान न्यूनतम समर्थन मूल्य के लिए निशुल्क पंजीक्रत हुए, जिनमे से 64.35 लाख किसानो से 2415.62 लाख एम्. टी. अनाज खरीदा गया, जिसका रु. 69111 करोड़ का भुगतान किया गया| "


श्री शिवराज सिंह चौहान
माननीय मुख्यमंत्री, मध्य प्रदेश

ई-उपार्जन उद्देश

सॉफ्टवेर के माध्यम से उपार्जन केन्द्रों द्वारा किसानो से अनाज की प्राप्ति (खरीदी) की जाती है | प्राप्ति के पश्चात किसानो को उनके बेचे गए अनाज की रसीद उपलब्ध कराई जाती है एवं किसानो द्वारा बेचे गये अनाज की राशि सात कार्यालयीन दिवसों में उनके पंजीकृत बैंक खाते मे जमा कर दी जाती है| ई-उपार्जन साफ्ट्वेय़र के माध्यम से उपार्जन केंद्र द्वारा संग्रहण केन्द्र को किसानो से ख़रीदे गए अनाज का परिवहन किया जाता है । परिवहन में उपयोग होने वाले बारदानो को भी उपार्जन केंद्र द्वारा प्राप्त और अन्य उपार्जन केंद्र को जारी किया जाता है | अनाज खरीदी की संपूर्ण प्रक्रिया ई-उपार्जन साफ्ट्वेय़र के माध्यम से ही की जाती है । "


AWARDS
Best IT initiative” in Madhya Pradesh for the year 2011-12
CSI - Nihilent eGovernance Award 2011-12
Best Government Project in Social Inclusion in the Horizontal Category
Coverage Planned

e-Uparjan योजना राज्य के किसानो को लाभ पहुंचाने के लिए सरकार द्वारा शुरू किया गया है । e-Uparjan Application के द्वारा पूरे मध्यप्रदेश को कवर करने की योजना बनाई गयी है, जिससे प्रदेश के हर जिले के अनाज (गेहूं,धान,ज्वार ,बाजरा,चना ,मसूर ,सरसों आदि) की मोनिटरिंग की जाती है |इस योजना के अंतर्गत राज्य सरकार से मध्य प्रदेश के जो किसान सीजन के दौरान न्यूनतम समर्थन मूल्य पर अनाज बेचना चाहते है ,वो MP-euparjan Application के द्वारा पंजीयन कर सकता है

  • e-Uparjan पोर्टल पर लोग घर बैठे अपने कंप्यूटर या मोबाइल के माध्यम से आसानी से ऑनलाइन पंजीयन कर सकते है
  • इस योजना का लाभ राज्य के सभी किसान उठा सकते है ।
  • ऑनलाइन पोर्टल के शुरू होने से समय की भी बचत होगी ।
  • किसान की भुगतान राशि सीधे किसान के बैंक खाता में जमा होगी ।
  • सन्देश द्वारा किसान खरीदी की जानकारी दी जायगी ।
  • किसान को पंजीयन और खरीदी की पावती पर्ची भी दी जायगी ।

e-Uparjan Process

e-Uparjan की प्रक्रिया के अंतर्गत 6 चरण आते है जिसमें किसान पंजीयन,सन्देश द्वारा खरीदी जानकारी देना,अनाज खरीदी,परिवहन,संग्रहण और भुगतान करने आदि ऑपरेशन किये जाते है, ताकि एक सही योजना बनाई जा सके |

  • e-Uparjan ऑनलाइन पंजीयन
  • सन्देश द्वारा खरीदी जानकारी देना
  • उपार्जन केंद्र से किसान की खरीदी
  • खरीदे गए अनाज का परिवहन
  • परिवहन किये गए अनाज का गोदाम में संग्रहण
  • किसान के बैंक खाते में सीधे भुगतान